Item List

आगोकुल धन्य हम आम एकादशी ॥ 
प्रकटे श्रीवल्लभ सुखरासी॥
 श्रीगोकुल गोवर्धनवासी ॥ शा ! तेजी निवासी ॥टेक ॥ 
कुंजन कुंज निवास यमुना पुलिन ब्रेण         ।
अकुलाय नव ब्रजसुंदरी तब सुखद रास रचाइयो॥ 
सातदिन गिरिधर्यों  कमलकर गर्व सुरपति हरणजू॥ 
दासजनके हेत प्रकटे फेर गिरिवरधरणजू॥१ ॥ 
श्रीलक्ष्मणगृह नवनिधि आई॥ श्रीवल्लभ द्विज रूप कहाई ॥ 
जायो पूत इलंमामाई ॥ हरखत फूली अंग न समाई ॥टेक ॥
फूली अंग न समाय जननी करत आनंद बधावने॥ 
गोरसकीच भई अजरमे  दूध दधि सिरनावने॥ 
पहरभूषण मुदित सहचरी वसन नानावरणजू॥  
दासजनके हेत  प्रकटे फेर गिरिवरधरणजू॥२॥ 
श्री लक्षमणगृह होत बधाईं। श्रवण सुनत ब्रजबध्ू उठधाईं ॥ 
सहज शूंगार किये मन भाये | 
बोलत जयजय शब्द सुहाये ॥टेक ॥ 
जयजय शब्द सुनायबोलत गीत झूमक गावहीं ॥ 
थार कंचन हाथलीने जुरजुर बदन आवहीं॥
मुदित दे करतार नाचत बाजत नूपुर चरणजू॥ दासजनके हेत प्रकटे फेर
िरिधरवरणजु ॥३॥ श्रीलक्षमणगृह नवनिधि आई॥ 
अद्भुत शोभा वरणी न    जाईं॥ 
कंचन कलश ध्वजा फहराई॥ दीपदान कर जुगत बनाई ॥टेक ॥ 
बनाई जुगत धर दीपमाला जोतफेली गन ज   धेनु धन गृह वसन भूषण देत कंचन नगनजु।  
मुदित व्है नरनारि जुर देत असीस चले घरनजू॥ दासजनके हेत प्रकटे फेर गिरिवरधरनजू ॥४ ॥

Aa Gokul Dhanya Hum Aam Ekadashi

Shree Mahaprabhuji ki Badhai ( Chokada)

Read More
आज अति सोभित है नंदलाल | नवचंदनको लेप कियो है ता
पर मोतिन माल  ॥१॥  खासाको कटि बन्यो पिछोरा कुलह जु सुतरु सोहे
भाल। कुन्द मालती कंठ विराजत बीच बीच फूल गुलाल ॥२॥ सारंग राग
अलापत गावत मधुर मधुर सुरताल। गोविन्द प्रभुकी या छबि निरखत मोहि रही
ब्रजबाल | ३॥।

Aaaj Ati Shobhit Hain Nandlaal

Shringaar - Kulhe

Read More
कहांजु बसे सारी रात नंदसुत ॥ चारपहर मोहि चार युग बीते
तुमजो आये परभात ॥१॥ लटपटीपाग नींदभरि अखियां काजर लाग्यो तेरे
गात ॥ चोलीके बंद चुभ रहे तनमें कसन भयो सब गात ॥।२॥ रहो रहो
बवृषभाननंदिनी सुनहै यशोदा मात ॥ सूरदासप्रभु तिहारे मिलनकों रजनी कल्प
सम जात ॥३॥

Aaaj nis Jage Anuraage

Sheetkaal Khandita ( Mangal Shrungaar) - Maagshar Vad 14 Se Poosh Vad 14

Read More
आवें रावल की ग्वार नार गोकुलते खेल |
शिथिल अंग लज्जित मेन मोहन रंग रंगे नयन पीक लीक अरचि एन किये
रति केल ॥ १॥ अंस न अवलंब पांति प्रफुल्लित लपटात जात हसन दशन
कांति जुही ज्यों न रही फेल | पुलकित इत रोम पांति सोंधे सब सग बगात
केसर के रंग सिंधु प्रेम लहरि झेल ॥ २॥ सब वेश नव किशोरी मन्‍्मथ की
मटक मोरी प्रीतम अनुराग फाग बाढी रंग रेल ॥ ब्रजपति रिझ बार पाय
अचयो रस मन अघाय भोन गोन काज राज हंस न गति पेल ॥ ३॥

Aaavein Ravalki Gwal Naar

Dhamar

Read More
आबे माई ! नंद-नंदन सुख-दैनु ।
 संध्या समै गोप-बालक-संग आगें राजत धैनु ॥
 गोरज-भंडित अलक मनोहर, मधुर बजावत बैनु । 
इहि विध घोष मांझ हरि आवत सब कौ मन हरि लैनु ॥ 
कियोौ प्रवेश जसोदा-मंदिर जननी मधिप्यावति पय-फैनु ॥ 
'छीत-स्वामी' गिरिधरन-वदन-छवि निरखि लजानोौ मैनु ॥

Aabeee Nayi! Nand-Nandan Sukh-Denu

Aavni

Read More
आभूषन अंगअंग तेऊ अनुचर संग रूप भूप लीयें राजत शोभा पाय ॥ 
नवयौवन छत्र धरें सौभगता चमर ढरें गर्व सिंहासन बैठी आय ॥१॥
मानों नयना तुरंग कवच कंचुकी कस अंग कीयौ मुकाम अनंग मैत्री मिलाबन सुहाय ॥ 
अंचल ढाल ढरकत गज उर पर सूरदास मदनमोहन परे हैं 
राधा बस रीझ दान दीजै घूदु मुसक्याय ॥२॥

Aabhooshan Ang Ang Teuo Anoochar

Dashara Maan

Read More
आछेबने देखो मदनगोपाल॥ बहुत
फूलफूले नंद नंदन तुमकों गूथोंगी माल ॥।१॥। आय बैठे तरुवरकी छैँया अंबुज
नयन विशाल ॥ नैंक वियारकरों अंचलकी पाय पलोटोंगी लाल।।२॥ आछे
तब राधामाधव सों बोलत वचन रसाल ॥ परमानंदप्रभु यहां आयहो ब्रज तज
ओर न चाल॥३॥

Aache Bane Dekho Madan Gopal

Phool Mandali

Read More
शोभित नव कुंजनकी छबि भारी ॥ 
अद्भुतरूप तमालसो लपटी कनकवेली सुकुमारी॥१॥ 
बदन सरोज डहडहे लोचन निरख छबि सुखकारी ॥ 
परमानंदप्रभु मत्तमधुपहैं श्रीवृषभानसुता फुलवारी ॥२॥

Aache Bane Dekho MadanGopal

Rajbhoj Kunj

Read More
आछे बने देखो मदनगोपाल।॥ बहुत फूलफूले नंदनंदन तुमको
गूथोंगी माल ॥१॥ आये बैठे तरुवर की छैयां अंबुजनयन विशाल ॥ नेक वियार
करूं अंचलसों पाय पलोटोंगी बाल ॥२॥ आछे तब राधा माधोंसों बोलत वचन
रसाल ॥ परमानंदप्रभु यहां रहो ब्रजते और न चाल ॥३॥

Aache Bane Dekho MadanGopal

Rajbhoj Kunj

Read More
आछेव्नरजके खरिकरवाने वडडेवगर ॥॥
 नवतरुणी नवतरलितमंडित अगणितसुरभी हूंकडगर ॥१॥ 
जहांतहांदधिमथन घमरके प्रमुदित माखनचोर लंगर।। मागधसूतवदतबंदीजन लज्जितसुरपुर नगरीनगर ॥ २॥।
दिनमंगल  दिनवंदन  माला भवन सुवासित धूप अगर ॥ 
कौनगिनें हरिदासगहवरगुण मसिसागर अरुअवनीकगर ॥।३॥

Aache Vrajke Kharikkarvane

Dadhi Manthan

Read More
आछो नीको लोनों मुख भोरही दिखाइ़ये ॥ निशके उनीदे
नयना तोतरात मीठे बेना भावते जियके मेरे सुखही बढाइये ॥१९॥ सकल सुख
करण त्रिविध ताप हरण उरको तिमिर बाढ्यो तुरत नसाइये ॥ द्वारे ठाढे ग्वाल
बाल करोहो कलेऊ लाल मीसी रोटी छोटी मोटी माखनसों खाईए |। २॥| तनकसो
मेरो कन्हैया वार फेर डारी मैया बेंनी तो गुहों बनाइ गहरन लगाइये | परमानंदप्रभु
जननी मुदित मन फूली फूली अति उर अंगन समाइये ।॥। ३॥।

Aachhoo neeko loono mukh

Kaleoon

Read More
अधर मधुर मुखरित मोहनवंस ॥। चलत दृगंचल चपल करत
अतिबिलुलित पारिजात अवतंस ॥१॥ मानों गजराज कलभ अतिमद गलित
आवत लटकत भुजधेरें प्रिया सखा अंस ॥ गोविंदप्रभुको जु श्रीदामा प्रभूति सब
जयजय करत प्रसंस ॥२।।

Aadhar Madhur Mukharit

Shayan Darshan Sheetkal

Read More

TITLE