Annakut Ke Pad

To get full script of the Kirtan please click on the Kirtan row of below table.

Kirtan Title
Page
Kirtan
Raag
Poori poori puran maasi poorbo pooryo sharad kou chanda
Part1-350
पूरीपूरी पूरणमासी पूर्बौ पूरयौ शरदकौ चंदा | पूरयौ है मुरली स्वर केदारों कृष्ण कला संपूरण भामिनी रास रच्यौ सुख कंदा ॥१॥ तान मान यति मोहन मोहे कहियत औरही मन मोहंदा || नृत्य करत श्रीराधा प्यारी नचवत आप बिहारी उघटत थेईथेई थुगन छंदा ॥३॥ मन आकर्षि लियो व्रजसुंदरि जयजय रुचिर रुचिर गति मंदा ॥ सखी असीस देत हरिवंशी तैसेंई बिहरत श्रीवृंदावन कुँवरिकुवर नंदनंदा ॥३॥
Kedaro
Rakhat rang girivardharan
Part1-350
राखत रंग गिरिवरधरन ॥ रासरंग सरस रच्यौ नृत्य गति मनहरन ॥१॥ शरद उड्डपति किरण रंजित बिपिन नाना बरण ॥ तरणि तनया पुलिन में सुख रासि प्रकटित करण ॥२॥ सुभग युवति कदंब संगीत सुरत सागर तरण ॥ भर्तू काव्य सुधा सरोवर राज बिहरन ॥३॥ तत थेई तत थेई थेई शब्द गति उच्चारण ॥ कृष्णदासनिनाथ निज भुज त्रिया उर विस्तरण ॥४॥
Kedaro
Nrutyat raas mein rang rahmou
Part1-351
नृत्यत रास में रंगरह्मौ ॥| भये मोहित चलअचल हरि जबही वेणु गह्मौ ॥१॥ बिपिन बूंदा सच्यौ जो सुख परत नॉहि कह्मौ ॥ प्रेम प्रभु संग रंग रसकौ उमंग वारिधि बह्लो ॥२॥
Kedaro
Shyam Sang Radhika raas mandal bani
Part1-351
श्याम संग राधिका रासमंडल बनी ॥ बीच नँदलाल ब्रजबाल चंपक बरण जनु घन त़तड़ित बिच कनक मरकत्त मणी ॥१॥ लेत गति मान तत थेई हस्तक भेद सारीगमपधनी ए सप्नस्वर मंदनी ॥ नृत्य रस पहिर पट नील प्रकटित छबि बदन जनु जलद में हिमकिरन की चाँदनी ॥२॥| रागरागणी तानमान संगीत मध्य थकित राकेश नभ शरदकी यामिनी ॥ मिलत हरिवंश प्रभु हंस कटि केहरी दूर कर मदन मत्त गजगामिनी ॥३॥
Kedaro
Aaliree raas mandal madhya nrutya karat mandan mohan
Part1-351
आलीरी रासमंडल मध्य नृत्य करत मदन मोहन अधिक सोहन लाड़िली रूप निधान ॥ चलन चारु हस्तभेद मिलवत आछी भाँत-भाँत मंदहास भ्रुव बिलास लेत नयन नहीं में मान ॥१॥ दोऊ मिल राग केदारों अलापत होड़ाहोड़ी उघटत बिकट तान ॥ परमानंद निरख गोपीजन बारत हैं निज प्राण ॥२॥
Kedaro
Rishshayi sakhiree tein saawaree sujanraaya
Part1-351
रिश्षयी सखीरी तें सॉवरी सुजानराय || तान बंधान अनूपम गतिसों मधुर ताल स्वर सुधर गाय ॥१॥ राखे प्रेम प्रमोद प्राणपति ग्रूढ़भाव सैंनन जनाय ॥ उघटत शब्दसंगीत स्वामिनी नृत्यत पग नूपुर बजाय ॥२॥ हरिसंग रासरंग राख्यों मिलिके अंगअंग गुण बहुत भाव ॥ चब्रभुज गिरिगोवर्द्धनघारीलाल लेत रहसि हँसकंठ लाय ॥३॥
Kedaro
Page 1 of 889